स्वसहायता समूह की महिलाएं आएंगी अध्ययन भ्रमण पर, देखेंगी  रायपुर और नया रायपुर

राजनांदगांव, बेमेतरा, गरियाबंद एवं कांकेर की 450 महिलाएं आज पहुंचेंगी अध्ययन प्रवास पर

राज्य शासन की हमर छत्तीसगढ़ योजना में कल 16 मई से नया आयाम जुड़ जाएगा। पंचायत प्रतिनिधियों एवं सहकारिता प्रतिनिधियों के बाद अब इस योजना के अंतर्गत स्वसहायता समूह की महिलाएं भी राजधानी रायपुर की अध्ययन यात्रा पर आ रही हैं। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन और संकुल संगठन के पदाधिकारी 16 मई से दो दिवसीय अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आएंगी। आगामी डेढ़ महीनों में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत प्रदेश के 85 विकासखंडों में काम रही महिला स्वसहायता समूहों की 11 हजार पदाधिकारियों को रायपुर और नया रायपुर का भ्रमण कराया जाएगा।

Advertisement

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूह के ग्राम संगठन के अध्यक्ष, सचिव और ग्राम संगठन सहायिका में से दो पदाधिकारियों को भ्रमण दल में शामिल किया जाएगा। संकुल संगठन के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, उपसचिव, कोषाध्यक्ष और लेखापाल सहित सभी पदाधिकारी अध्ययन दल में शामिल रहेंगे। स्वसहायता समूह के पदाधिकारियों के अध्ययन दौरे की शुरूआत कल 16 मई को चार जिलों राजनांदगांव, बेमेतरा, गरियाबंद और कांकेर की महिलाओं के प्रवास से होगी। चारों जिलों से कुल 450 पदाधिकारी अध्ययन यात्रा पर आ रही हैं।

स्वसहायता समूह की महिलाएं अध्ययन प्रवास के दौरान छत्तीसगढ़ विधानसभा, मंत्रालय, जंगल सफारी, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, साइंस सेंटर और पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण करेंगी। 01 जुलाई 2016 से शुरू हुई हमर छत्तीसगढ़ योजना में अब तक एक लाख 44 हजार 463 निर्वाचित जनप्रतिनिधि राजधानी की अध्ययन यात्रा कर चुके हैं। इनमें त्रिस्तरीय पंचायतीराज संस्थाओं के एक लाख 38 हजार सात और सहकारी संस्थाओं के छह हजार 456 प्रतिनिधि शामिल हैं।