चुनाव कार्य समीक्षा हेतु छत्तीसगढ़ आये देश के मुख्य चुनाव आयुक्त श्री ओ.पी.रावत से आज जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़-जे का प्रतिनिधिमंडल ने मिल कर प्रदेश में निष्पक्ष चुनाव कराने हेतु सुजाव सम्बंधित ज्ञापन सौपते हुए ज्ञापन में दिए गए सुजावो पर अमल करने का आग्रह किया.
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़-जे के प्रवक्ता नितिन भंसाली ने बताया की मुख्य चुनाव आयुक्त को सौपे गए ज्ञापन में प्रमुख रूप से उन्होंने पहले चरण में होने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के मतदान केंद्रों में अनिवार्य रूप से  सीसी टीवी केमेरे ओर वीडियोग्राफी कराये जाने, समस्त नक्सल प्रभावी मतदान केंद्रों में पर्याप्त सुरक्षा, शासन के नियंत्रण में संचालित शराब दुकानों की आवक जावक एवं विक्रय का नियंत्रण और आवक जावक का लेखा जोखा पूर्ण रूप से चुनाव आयोग के नियंत्रण में हो, गेस सिलेंडर, बिजली बिल एवं अन्य शासकीय दस्तावेज जो जनता तक पोहचते है पर मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के फोटो को तत्काल हटाये जाने बाबत, शासन द्वारा 2 माह पूर्व बांटे गए लगभग 50 लाख मोबाइल में शासन ने 6 महीने का डेटा फ्री दिया है जिस पर आचार संहिता लगने की दिनांक से लेकर चुनाव होते तक के समय का मुफ्त डेटा का हिसाब निकाल कर उसका खर्च बीजेपी के चुनाव खर्च में जोड़ा जाए, चुनाव में केंद्रीय नेताओ द्वारा भविष्य में जनता को अपने भाषण में दिए जाने वाले प्रलोभन जैसी बातों पर कढ़ाई से कार्यवाही करने एवं चुनाव प्रचार में मोबाइल एसएमएस, व्हाट्सएप्प ओर सोशल मीडिया के उपयोग के निर्देशों को स्पष्ट करने सम्बंधित मांगो को चुनाव आयुक्त के समक्ष रखते हुए ज्ञापन   सौप कर इस पर तत्काल  कार्यवाही किये जाने का आग्रह किया, जिस पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने जेसीसी-जे के प्रतिनिधिमंडल की बातों को गौर से सुनते हुए उस पर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया|

आज मुख्य चुनाव आयुक्त को ज्ञापन सौपने गए जेसीसी-जे के प्रतिनिधिमंडल में इकबाल एहमद रिजवी, नितिन भंसाली, डी.आर.अग्रवाल,
प्रतीक अग्रवाल आदि सदस्य उपस्थित थे