इंदिरा जनाधिकार पदयात्रा के अंतिम दिन भिलाई में उमड़ा अपार जनसमूह
 
पुनिया, पटेल, उरांव, सिंहदेव, सहित प्रदेश के सभी वरिष्ठ नेता हुए पदयात्रा में शामिल
 
भिलाई खुर्शीपार की सभा में आये ऐतिहासिक भीड़
जब से प्रदेश अध्यक्ष के पद पर भूपेश बघेल जी को जिम्मेदारी मिली है इस निक्कमी सरकार के खिलाफ उनके नेतृत्व में लगातार इस प्रकार के आंदोलन किये जा रहे है, यही कारण है कि सरकार बौखलाकर अब कांग्रेसजनो को प्रताड़ित करने का अलोकतांत्रिक काम करने में लग गयी है। यह उदगार आज भिलाई की महती सभा को सम्बोधित करते हुए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पी.एल. पुनिया ने कहा। इंदिरा जी की जन्मशताब्दी कार्यक्रम में इतना बेहतरीन आयोजन के लिए राजीव गांधी पंचायतीराज संगठन के अध्यक्ष नीलम चन्द्राकर सहित तमाम उनके सहयोगी साथियो को बधाई देते हुए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पी.एल. पुनिया ने कहा कि भारी संख्या में यहां मौजूद महिलाओं की यह भीड़ बता रही है कि इंदिरा जी के प्रति आज भी आपके मन में कितनी श्रद्धा है। और हो भी न क्यों इंदिरा जी ऐसे ही करिश्माई व्यक्तित्व थी जिनके मन में देशवासियों के प्रति अगाध प्रेम था। वे हमेशा गरीबी के हित न केवल चिंता किया करती थी बल्कि उनके उत्थान के लिए जीवन भर काम करती है। जिसको आज भी देशवासी नही भूल पाए है। इंदिरा जी के बारे में बहुत ज्यादा यहां बताने की कोई जरूरत नहीं है। देशप्रेम, अदम्य साहस, गरीबों के प्रति संघर्ष और देश को उन्नत राष्ट्र बनाने की ललक उन्हें विरासत में मिला था। भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेकर कई दिनों तक जेल में रही। उन्होंने वानर सेना का गठन कर बचपन से ही स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े आंदोलनकारियो को सहयोग करती रही। इंदिरा जी 16 वर्ष तक देश की प्रधानमंत्री रही। इस दरम्यान उन्होंने देश में हरित क्रांति के माध्यम से भारत को खाद्यान उत्पादन में न केवल आत्मनिर्भर बनाया बल्कि पड़ोसी देशों को भी जरूरत पड़ने पर सहयोग करने की स्थिति में ले आया। उसी के प्रयत्नों का परिणाम है कि आज देश मे कई सालों तक के लिए खाद्यान्न पदार्थो का अकूत भंडार बना रहता है। देश इस उपलब्धि ले लिए इंदिरा जी को कभी नही भूलेगी। पाकिस्तान के साथ लड़ाई लड़ी, बंगला देश का उदय कराया, पूरा विश्व उसके साहस का लोहा मानने लगी। प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने अनेको उपलब्धियां हासिल की यहां तक की भारत को परमाणु शक्ति सम्पन्न राष्ट्र बनाकर विश्व के अग्रणी देशो की पंक्ति में ला खड़ा कर दिया। बंगला देश का निर्माण कर 93,000 पाकिस्तान सैनिको ने जब इंदिरा जी के सामने समर्पण किया, तो विपक्ष भी उन्हें दुर्गा मां की उपमा देने से परहेज नहीं किया। सिक्किम को भारत में मिलाया। आज समय है कि ऐसे महान राष्ट्र भक्त प्रियदर्शनी इंदिरा जी से हम सब प्रेरणा लेवे।
पुनिया जी उपस्थित मंच और आये जनसैलाब की मुखातिब होते हुए कहा कि पूरा नेतृत्व एकजुट होकर इस भ्रष्ट किसान, मजदूर और जनविरोधी सरकार को हटाने तक चैन से न बैठे। इस नेक काम में आप सब आज से ही जुट जाएं। मेरी पूरी सदभावना एवं हर प्रकार का सहयोग इस संत कार्य मे हमेशा आप लोगो के साथ रहेगा।

इंदिरा जनाधिकार पदयात्रा के अंतिम दिन उमड़े जनसैलाब की सभा को खुर्शीपार भिलाई में सम्बोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि यह भिलाई जहाँ इंदिरा जनाधिकार पदयात्रा का समापन होने जा रहा है, देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु जी की इस नगरी के लिए बड़ी देन है भिलाई स्टील प्लांट। जिसने न केवल छत्तीसगढ़ का बल्कि पूरे देश की आर्थिक उन्नति की बुनियाद रखी। ऐसे में मां बम्लेश्वरी की नगरी डोंगरगढ़ से शुरुआत होकर इस्पात नगरी भिलाई में इस पदयात्रा का समापन का अपना ऐतिहासिक महत्व है। ये पदयात्रा सत्ता प्राप्ति के लिए नहीं बल्कि हर तरीके और हर स्तर पर त्रस्त हो चुकी राज्य की जनता को इस निरकुंश मदमस्त और कमीशनखोर वादाखिलाफी करने वाली सरकार के खिलाफ लोगो को एकजुट करने के लिये है ताकि 2018 में किसी प्रकार के सब्जबाग में आये बिना सबक सिखाने कमर कस कर तैयार रहे।
बघेल जी पदयात्रा में शामिल सभी लोगो के प्रति आभार व्यक्त करते हुए विशेष रूप से राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के अध्यक्ष नीलम चन्द्राकर और उसके पूरी टीम को सहयोग के लिए धन्यवाद दिया।

कांग्रेस विधायक दल के नेता टी.एस. सिंहदेव ने कहा कि पदयात्रा का यह सिलसिला जारी रहना चाहिए। लोगो को हमेशा परेशानी में डालने वाली इस सरकार को बदलने के समय आ चुका है, हम सबकी यह महत्वपूर्ण जवाबदारी है और यही मकसद आज के इस कार्यक्रम की भी है। भाजपा सरकार सत्ता के मद में इतनी मदमस्त हो गयी है कि उनके निरंकुशता के चलते लोकतांत्रिक प्रक्रियायें आफत में आ चुकी है। इस भ्रष्ट सरकार को बदल कर लोगो को राहत देने की जरूरत है। यह काम केवल कांग्रेस ही कर सकती है। क्योंकि जनता का विश्वास भी केवल कांग्रेस के प्रति है यही कारण है कि लोग हम लोगो की ओर आस लगाए बैठे है। लोगो के इस उम्मीद को सम्मान देते हुए देश और राज्य से भ्रष्ट भाजपा सरकार को उखाड़ फेकने का संकल्प लेना होगा।

पूर्व नेता प्रतिपक्ष रविन्द्र चौबे ने उपस्थित जनसमुदाय को जोशीले अंदाज में सम्बोधित करते हुए कहा कि इंदिरा जनाधिकार पदयात्रा का 6 दिवसीय कार्यक्रम और उसका यह समापन समारोह बहुत ही ऐतिहासिक रहा। यह पदयात्रा भ्रष्टाचार, कमीशनखोर और निरंकुश भाजपा सरकार को बाहर का रास्ता दिखाने के लिए राज्य के लोगो से सहयोग मांगने के लिए है। संवेदनहीन रमन सरकार से किसानों, मजदूरो और राज्य के नौजवानों को हो रही परेशानियों को जानने के लिए है। उनको हो रही उन परेशानी के खिलाफ है यह पदयात्रा, जिनके लिए केंद्र और भाजपा की सरकार पूरी तरह जिम्मेदार है। कांग्रेस की यह लड़ाई निरन्तर जारी रहेगी। निश्चित रूप से पदयात्रा के माध्यम से लोगो की तकलीफों के बारे में काफी कुछ नजदीक से जानने और समझने को मिला है।
पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने सभा के माध्यम से भाजपा नेतृत्व पर कटाक्ष करते हुए कहा कि मोदी के शासनकाल में एक ही आदमी को रातो-रात एकाएक करोड़पति होते देखा है। अमितशाह का बेटा जिन्होंने केवल धनिया बेचकर 1 साल में 50,000 रुपये को 80 करोड़ के पूंजी में तबदील कर लेता है। पता नहीं क्या वो धनिया चंद्रमा में या मंगल ग्रह में बेचकर इस जादू कर कमाल दिखाया है? कमाया है? मोदी जी को ये तरकीब पूरे देशवासियो को बताना चाहिए ताकि बदहाली से गुजर रहे देश के किसानों का भी किस्मत का पिटारा खुल जाए। मुख्यमंत्री रमन के गोठ में किसानों की कभी कोई बात नही होती। जंगल सफारी में शेर की तस्वीर ले रहे थे मोदी जी पिंजरे में बंद शेर से नजर मिला रहे थे, और रमन जी कह रहे थे शेर की भी हिम्मत नहीं हो रही है मोदी जी से नजर मिलने की। लेकिन हम पूछना चाहते हैं कि आपके मोदी जी इतने ही शूरवीर है तो हजारो की संख्या में आत्महत्या कर रहे किसान परिवार से जाकर नजर मिलाकर तो देखे, मोदी जी। इस पदयात्रा में महिलाओं ने खूब मेहनत की है। ये ही परिवर्तन के लक्षण है। पूरे प्रदेश में कांग्रेस के पक्ष में माहौल है। सरकार के खिलाफ जनआक्रोश है।

पूर्व मंत्री मो. अकबर ने कहा कि कांग्रेस के बारे भाजपा के लोग जिस ढंग से दुष्प्रचार करते है वो जान लें ये इस्पात की नगरी कांग्रेस की ही देन है। संकल्प पत्र के जरिये उन्होंने आदिवासियो को, किसान को, युवाओं को, यहां तक की सभी को झूठे आश्वासन देकर सत्ता में आयी। कांग्रेस की मांग हैं कि सरकार किसानों की बकाया राशि दे। नीति आयोग ने कहा कि छत्तीसगढ़ में गरीबो की संख्या 52 प्रतिशत हो गयी है। इस पर भी रमनसिंह कुछ कह देते तो अच्छा होता।

राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के अध्यक्ष नीलम चन्द्राकर ने पदयात्रा के औचित्य को बताते हुए कहा कि यह एक ऐतिहासिक यात्रा है। किसानों की समस्याओं को, मजदूर, बेरोजगार, महिलाओं की समस्याओं को उठाने के लिए यह पदयात्रा की गई हैं। सभा को महापौर देवेन्द्र यादव, प्रदेश उपाध्यक्ष बदरूद्दीन कुरैशी, पूर्व विधायक प्रतिमा चन्द्राकर ने भी संबोधित किया।

पदयात्रा में प्रभारी सचिवद्वय कमलेश्वर पटेल जी, अरुण ऊरांव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ चरणदास महंत जी, राज्यसभा सांसद छाया वर्मा जी, पूर्व सांसद करुणा शुक्ला जी, विधायकगण चुन्नीलाल साहू, जनकलाल वर्मा, मोहन मरकाम, दिलीप लहरिया, भैयालाल सिन्हा, अमितेश शुक्ल, बदरुद्दीन कुरैशी, डाॅ. शिव डहरिया, पूर्व सांसद पी.आर. खुटे, गंगा पोटाई, राजेन्द्र तिवारी, फूलोदेवी नेताम, चैनसिंह सामले, शिशुपाल सौरी, महापौर प्रमोद दुबे प्रमुख रूप से शामिल थे।

सभा के पूर्व आज इंदिरा जनाधिकार पदयात्रा नेहरू नगर भिलाई से प्रारंभ होकर बीच-बीच में चौक -चौराहो पर लोगों और युवाओं के स्वागत और आतिशबाजी एवं अंबेडकर जी की मूर्ति पर माल्र्यापर्ण पश्चात 12 किमी की दूरी तय कर पदयात्रा खुर्सीपार पहुंचा। जहां से पदयात्रा सभा के रूप में तब्दील होकर स्टेडियम के पास स्व. राजीव गांधी की प्रतिमा पर माल्र्यापर्ण पश्चात समाप्त हुई।