दुलदुला में 103 करोड़ के 300 विकास कार्यो का लोकार्पणभूमि पूजन संपन्न

विभिन्न हितग्राही मूलक योजना में 27 हजार 426 हितग्राही हुए लाभान्वित

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज प्रदेश व्यापी विकास यात्रा के दौरान जशपुर जिले के विकासखंड मुख्यालय दुलदुला में आयोजित विशाल जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने यहां दुलदुला को एक सौ सीटर क्षमता के कौशल विकास केन्द्र खोलने की घोषणा की। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने दुलदुला की आम सभा में 103 करोड़ 59 लाख रूपये की राशि के 300 विभिन्न विकास कार्यो का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इनमें 50 करोड़ रूपये की राशि के 81 कार्यो का लोकार्पण और 53 करोड़ 49 लाख रूपये राशि के 219 कार्यो का भूमि पूजन किया गया। उन्होंने इस अवसर पर शासन की विभिन्न हितग्राही मूलक योजनाओं के तहत 27 हजार 426 हितग्राहियों को 6 करोड़ 6 लाख रूपये की सहायता राशि तथा सामग्रियों का वितरण किया। उन्हांेने 2 हजार 684 हितग्राहियों को 8 करोड़ 39 लाख रूपये का धान बोनस वितरण किया।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने विशाल आमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ का दूरस्थ आदिवासी बहुल जिला जशपुर अब तेजी से बदल रहा है और विकासगढ़ी के रूप में जशपुर का जश उभर रहा है। पहले पिछड़े जिले के रूप में पहचाना जाने वाला इस जशपुर जिले में अब शिक्षा, स्वास्थ्य और कौशल उन्नयन व विकास के मामले में अभूतपूर्व प्रगति आयी है। यहां हर साल बोर्ड परीक्षा की मेरिट सूची में 4 से 6 बच्चे शामिल रहते हैं। जशपुर जिले से ही जे.ई.ई. जैसे कठिन परीक्षा में अब हर साल ज्यादा से ज्यादा बच्चे सफल होने लगे हैं। हाल ही में जिले के फरसाबहार विकासखंड के युगराज पैंकरा का देश के प्रतिष्ठित भारतीय तकनीकी संस्थान आई.आई. टी. मुंबाई में उच्च शिक्षा की पढ़ाई के लिये चयन हुआ है। इसके अलावा जशपुर जिले की लड़कियां भी राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार से सम्मानित होने लगी है।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने इसी तरह जशपुर जिले में शिक्षा के साथ-साथ स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी प्रगति को सराहनीय बताया। उन्होंने कहा कि जशपुर में पहले वर्ष 2003 में संस्थागत प्रसव का प्रतिशत मात्र 07 था जो अब बढ़कर 97 प्रतिशत हो गया है। इसी तरह दो कॉलेज से बढ़कर 12 कॉलेज हो गये हैं। इससे अब यहां के प्रत्येक विकासखंड में कॉलेज संचालित हो रहे हैं और औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान एक से बढ़कर छः हो गये हैं। यहां युवाओं के कौशल विकास के लिये 73 कौशल विकास केन्द्र संचालित हो रहे हैं। जशपुर में किसानों की उन्नति के लिये दो हजार 600 हितग्राहियों को सोलर पम्प का वितरण हुआ है। जिले में लगभग 700 गांवो का विद्युतीकरण हो चुका है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि आगामी छः माह के भीतर जशपुर का हर घर बिजली से रोशन हो उठेगा। उन्हांेने आम सभा में जनहित में संचालित विभिन्न योजनाओं प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, स्वच्छ भारत अभियान, आयुष्मान भारत योजना आदि के बारे में बताया। उन्हांेने संचार क्रांति योजना के बारे में बताया कि इसके तहत प्रदेश में 50 लाख परिवारों को स्मार्ट फोन का निःशुल्क वितरण होगा।

कार्यक्रम को केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री श्री विष्णुदेव साय ने, संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य का विकास तेजी से होने लगा है। यहां लोगो की उन्नति के लिये उनके शिक्षा, स्वास्थ्य और कौशल उन्नयन जैसे विभिन्न क्षेत्रों में हर आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही है। कार्यक्रम को क्षेत्रीय विधायक श्री रोहित साय ने भी संबोधित किया और उन्होने क्षेत्र में तेजी से हो रहे विकास के लिये सरकार की सराहना की। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ के गृह मंत्री श्री राम सेवक पैंकरा, राज्य सभा सांसद श्री रणविजय सिंह जूदेव, छत्तीसगढ़ राज्य वनोैषधि बोर्ड के अध्यक्ष श्री राम प्रताप सिंह, राज्य लघु वनोपज संध के अध्यक्ष श्री भरत साय, सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री राजशणर भगत, खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अघ्यक्ष श्री कृष्णा कुमार राय, संसदीय सचिव श्री शिवशंकर पैंकरा, जिला पंचायत के अध्यक्ष श्रीमती गोमती साय तथा उपाध्यक्ष श्री प्रबल प्रताप सिंह जूदेव और ग्रामीण जन बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह दुलदुला के आमसभा में जिन 5 प्रमुख कार्याें का लोकार्पण किया उनमें 36.309 करोड़ लागत के बालाछापर आरा मार्ग, 8.184 करोड़ की लागत के खोखसो बेंजोरा से लुखी मधवा मार्ग, 0.807 करोड़ की लागत के 16 सोलर हैण्डपंप स्थापना, 0.696 करोड़ के लागत के तहसील कार्यालय में 4 सोलर पावर प्लान्ट की स्थापना और 0.237 करोड़ की लागत से एस.आर..एल.एम सेन्टर का निर्माण शामिल है।

साथ ही मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जिन प्रमुख 5 कार्याें का भूमिपूजन किया उनमें 18.495 करोड़ लागत के गायबुड़ा से कैलाश गुफा मार्ग, 17.830 करोड़ की लागत के दमेरा होते हुए चराईडांड़ मार्ग, 3.772 करोड़ की लागत के बगीचा से डुमरटोली मार्ग में डोड़की नदी पर उच्च स्तरीय पुलिया निर्माण, 1.880 करोड़ लागत से पण्डरापाठ में 100 सीटर प्री.मै. आदिवासी कन्या छात्रावास, 1.880 करोड़ की लागत से रौनी में 100 सीटर प्री.मै. आदिवासी कन्या छात्रावास के भूमिपूजन के कार्य शामिल है।

इसके अलावा विकास यात्रा 2018 में जशपुर मंे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत् 21426 हितग्राहियों को 6.063 करोड़ रूपये की विभिन्न सामग्रियों तथा धनादेश का वितरण किया गया। मुख्यमंत्री द्वारा 12010 हितग्राहियों को आबादी पट्टा और प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत् 5000 हितग्राहियों को गैस कनेक्शन वितरित की गई। इसके अलावा श्रम विभाग की विभिन्न योजनाओं के तहत् 1835 हितग्राहियों को सायकल, औजार एवं अन्य सामग्री का भी वितरण किया गया।