राहुल गांधी के दौरे से बौखलाई भाजपा ने अपनी बी-टीम को लगाया क्या बैकडेट पर बी-टीम से सरकार ने आवेदन लिया?

1
92
शैलेश नितिन त्रिवेदी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पेण्ड्रा दौरा क्या तय हुआ भाजपा और उसकी बी-टीम दोनों के हौसले पस्त हो गये और एक बार फिर दोनों साथ आकर षड़यंत्र करने में लग गये है। कांग्रेस ने कहा है कि जिस तरह के बयान पेण्ड्रा रैली को लेकर आये हैं उससे शंका होती है कि सरकार के कहने पर ही बी-टीम ने उन्ही तिथियों में पेण्ड्रा में रैली करने का फैसला किया है। ऐसा लगता है कि सरकार के कहने से बैकडेट को आवेदन दिया गया और आनन-फानन में स्वीकृति दे दी गयी। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का कार्यक्रम तय होने से भारतीय जनता पार्टी बौखला गयी है। भाजपा द्वारा अपने सहयोगियों के माध्यम से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कार्यक्रम को लेकर तमाम तरह की कोशिशे की जा रही है। जिस स्थान पर कार्यक्रम प्रस्तावित था, वहां पर स्थान को बुक कराने से लेकर साथ-साथ कार्यक्रम करने की घोषणा सहित तमाम कोशिशे जारी है। कांग्रेस के कार्यकर्ता भाजपा और भाजपा के द्वारा जगजाहिर उनके सहयोगियों का मुकाबला करना बखूबी जानते है। कांग्रेस का एक-एक कार्यकर्ता एक-एक नेता कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कार्यक्रम को सफल बनाने में जुट गया है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस छत्तीसगढ़ में किसानों की स्थिति को उजागर करने के लिये किसान सम्मेलन और आदिवासियों के मुद्दों को उठाने के लिये आदिवासी सम्मेलन का आयोजन कर रही है। आदिवासियों की जमीनो हड़पने और आदिवासियों को उनके जायज विधि सम्मत अधिकारों से वंचित करने की भाजपा सरकार की हरकतो का खुलासा होते देखकर और राहुल गांधी के दौरे को मिल रहे जनसमर्थन से भाजपा और भाजपा के सहयोगी बौखला चुके है।

Advertisement
  • भाजपा सरकार की हरकतो का खुलासा होते देखकर भाजपा और भाजपा के सहयोगियों की रातों की नींद उड़ गयी है। 
  • भाजपा की बी.टीम 6 मई को बयान जारी करके कहती हैं कि हमारा कोई कार्यक्रम 17-18 मई को नहीं होगा। 
  • 7 मई को अचानक 4 बजे शाम को पत्रकारवार्ता लेकर भाजपा की बी. टीम 17, 18, 19 को कार्यक्रम की घोषणा करती है। 
  • भाजपा सरकार की इसमें मिलीभगत क्योंकि भाजपा की बी-टीम को भाजपा सरकार द्वारा जो अनुमति 7 मई को दी गई। उसमें ही 5 मई के आवेदन की तारीख लिखी है।
  • जब 6 मई को कोई प्रस्तावित कार्य नहीं होने की घोषणा भाजपा की बी-टीम कर चुकी थी, तो फिर 5 मई को बी-टीम द्वारा आवेदन करने का सवाल ही नहीं उठता। भाजपा सरकार ने बैकडेट पर आवेदन लेकर 7 मई को भाजपा की बी टीम को कार्यक्रम की अनुमति दी गई।
  • यह तथ्य ही भाजपा और भाजपा की बी टीम की मिली भगत का खुलासा कर देता है।
  • देश और प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष के कार्यक्रम के प्रस्तावित स्थान को जिस हड़बड़ी में अन्य गैर मान्यता दल के कार्यक्रम के लिये पिछले दरवाजे से सुरक्षित करने की रमन सरकार ने चाल चली है उसे सब समझते है। इसको सब जान समझ चुके है कि अंतागढ़ का इतिहास दोहराने की तैयारी की जा रही है। जिस तरीके से तीन दिन की अनुमति, जिस तरीके से बैकडेट से दी गयी है उससे ही स्पष्ट है कि रमन सरकार आदिवासियों की आवाज उठने की संभावना को भी दबाना कुचलना चाहती है।
  • दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के द्वारा आदिवासियों की आवाज उठाने के लिये आदिवासियों की जमीन हड़पने की मिलीभगत का भंडाफोड़ करने के लिये आदिवासी सम्मेलन में आने की खबर मिलते ही भाजपा और भाजपा की बी-टीम अपना मानसिक संतुलन खो बैठी है।
  • प्रदेश के आदिवासियों के हितों व हको के घोर विरोधी यह दोनों आदिवासियों की हक की आवाज दबाने के लिए किसी भी सीमा तक जा सकते हैं यह बात अब उजागर व प्रमाणित हो चुकी। कांग्रेस का कार्यकर्ता इस मिलीभगत के खिलाफ पहले भी लड़ता रहा है और इस लड़ाई को कांग्रेस के कार्यकर्ता अधूरा नहीं छोड़ेंगे।
  • कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के कार्यक्रम की घोषणा होते ही आदिवासियों के दुश्मन बौखला गए हैं और इनकी बोखलाहट इस तरह की हरकतों से उजागर हो रही है। 
  • भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री और प्रभावशाली मंत्रियों प्रेमप्रकाश पांडे, अमर अग्रवाल, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, रमशीला साहू के क्षेत्रों में हो रहे कार्यक्रम से भाजपा की छत्तीसगढ़ रवानगी का त्रिभुज बनने जा रहा है।
  • बिलासपुर संभाग की 24 विधानसभा सीटों और दुर्ग संभाग की 20 विधानसभा सीटों में जिस तरह से संकल्प शिविर पूरे करके बूथ पाराटोला अनुभाग में काम करने वालों कार्यकर्ताओं का राहुल गांधी से संवाद आयोजित किया जा रहा है उससे भाजपा और भाजपा की बी-टीम सकते में आ गयी है। सरगुजा संभाग की 14 विधानसभा सीटों के सीतापुर में हो रहे किसान सम्मेलन से सत्ताधारी दल के होश उड़ गये है। 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here